UPSC: लगातार मिलने वाली असफलता और मां के कैंसर के बाद भी नहीं छोड़ी ज़िद, सातवें अटेम्प्ट में पूरा किया सपना

UPSC की Success Story: सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी के दौरान पल्लवी वर्मा को कई मुश्किलों का सामना करना पड़ा, लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी और आगे बढ़ती रहीं।

संघ लोक सेवा आयोग: सिविल सेवा परीक्षा को देश की सबसे कठिन परीक्षा माना जाता है। हर साल लाखों उम्मीदवार आईएएस अधिकारी बनने का सपना लेकर इस परीक्षा में भाग लेते हैं। हालांकि, कुछ ही लोग इस परीक्षा को पास करते हैं। इस सफलता के पीछे कई बाधाएं, कई संघर्ष और वर्षों की कड़ी मेहनत है। ऐसी ही एक कहानी है पल्लवी वर्मा की, जिन्होंने हर परिस्थिति का डटकर सामना किया और आखिरकार अपना मुकाम हासिल किया।

इंदौर की रहने वाली पल्लवी वर्मा ने बायोटेक्नोलॉजी में स्नातक की डिग्री हासिल की है। ग्रेजुएशन के बाद उन्होंने करीब 10 से 11 महीने तक चेन्नई में सॉफ्टवेयर टेस्टर के तौर पर भी काम किया। इसके बाद साल 2013 से उन्होंने सिविल एडमिनिस्ट्रेशन की डिग्री की तैयारी शुरू कर दी। उन्होंने पहले ही प्रयास में काफी मेहनत की थी, लेकिन पूरी जानकारी के अभाव में उनका चयन बना रहा। इसके बाद उन्होंने कुल 5 प्रयास किए। कभी इंटरव्यू में पहुंचे तो कभी तैयारी भी क्लियर नहीं कर पाए।

सिविल सेवा परीक्षा के इन उतार-चढ़ाव के दौरान उन्होंने कभी हार नहीं मानी और अपनी पढ़ाई जारी रखी। इस दौरान उनकी मां को कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी से जूझना पड़ा। लगातार असफलता और परिवार में इस संकट को देखने के बाद, पल्लवी ने जांच में भाग नहीं लेने का फैसला किया था लेकिन उसके माता-पिता ने उसका समर्थन किया। आखिरकार 2020 में पल्लवी ने अपना सातवां प्रयास दिया और 340वीं रैंक हासिल कर अपने सपने को पूरा किया।

इस कठिन परीक्षा को तोड़ने के लिए पल्लवी ने करीब 7 साल तक कड़ी मेहनत की। उन्होंने अपनी कमजोरियों और गलतियों को महसूस किया और उन्हें समय पर सुधारा। पल्लवी ने दिन-रात दृढ़ इच्छाशक्ति और कड़ी मेहनत के बाद ही यह मुकाम हासिल किया था। इससे न केवल उसे बल्कि उसके परिवार के सदस्यों के लिए भी आपूर्ति की जाती थी।

Leave a Comment

Aadhaar Card Status Check Online PM Kisan eKYC Kaise Kare Top 5 Mallika Sherawat Hot Bold scenes