Central Government Scheme

PM किसान के आवेदन में सुधार के लिए WhatsApp नंबर भेजें अपने डॉक्यूमेंट

PM किसान योजना WhatsApp No जारी, बैंक पासबुक और आधार कार्ड की फोटो भेजे व्हाट्सप्प नंबर पर, PM Kisan Toll Free Number, PM-Kisan WhatsApp Number

प्रधानमंत्री किसान निधि योजना (पीएम-किसान) के दूसरे चरण में, मोदी सरकार ने देश के 3.36 करोड़ किसानों को 2000 रुपये की पहली किस्त दी है। यदि आपको अब तक इस योजना का पैसा नहीं मिला है, तो आपको अपने लेखपाल या जिला कृषि अधिकारी से संपर्क करना चाहिए।

PM Kisan Samman Nidhi Yojana संपूर्ण जानकारी हिंदी में

यदि आपकी समस्या का समाधान नहीं होता है, तो केंद्रीय कृषि मंत्रालय द्वारा जारी किए गए पीएम-किसान हेल्पलाइन – 155261 या 1800115526 पर संपर्क करें। आप मंत्रालय के अधिकारियों से 011- 23381092 पर भी संपर्क कर सकते हैं।

PM किसान whatsapp नम्‍बर जारी

किसान भाइयों के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी। जी हां अब आप घर बैठे अपने आवेदन में सुधार कर पाओगें। पीएम किसान योजना में किसान को सालाना 6 हजार रूपये मिलते हैं। लेकिन बहुत से किसानों को अभी तक योजना का लाभ नहीं मिल रहा हैं। उनके आवेदन में गलती चल रही हैं। लेकिन अब घबराने की जरूरत नहीं हैं।

Rajasthan Kisan Karj Mafi List 2020

लॉकडाउन के चलते जारी हुये नये नम्‍बर

सभी किसानों को संशोधित करने के लिए व्हाट्सप्प के माध्यम से अपने दस्तावेज भेज सकते है जैसे कि आधार नंबर और बैंक खाता गलत हो जाता है तो उसकी फोटो लेकर व्हाट्सप्प नंबर पर भेज सकते है। इसके लिए जिले के सभी 9 ब्लॉकों के राज्य कृषि बीज भंडार के प्रभारी का व्हाट्सएप नंबर जारी किया गया है। उत्‍तर प्रदेश के किसानाें के लिए सरकार ने व्‍हाटसअप नम्‍बर जारी कर दिये हैं। अब कोई भी किसान घर बैठे ही अपने डॉक्‍यूमेन्‍ट को whatsapp नम्‍बर पर भेज कर अपने आवेदन में सुधार करवा सकता हैं।

PM-Kisan आवेदन फॉर्म की गलतियों को कैसे सुधारें?

पीएम-किसान: ब्लॉक वार व्हाट्सएप नंबर की जांच करें

  • गौरीगंज: 9871893698
  • शाहगढ़: 9956258581
  • जामो: 9721834301
  • भादर: 7869116671
  • अमेठी: 9415628435
  • भतुआ: 9450042761
  • संग्रामपुर: 9455485761
  • मुसाफिरखाना: 9838691489
  • शुकुल बाजार: 9451844523
  • बहादुरपुर: 5454181078
  • सिंहपुर: 8765552590
  • तिलोई: 9936345090
Official WebsiteClick Here
Sarkari YojanaClick Here
Published by
Pradeep Singh