राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना 2020 किसान रजिस्ट्रेशन

राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण | Krishi Upaj Rehan Rin Yojana | कृषि उपज ऋण योजना राजस्थान | राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना ऑनलाइन आवेदन

जैसा की दोस्तों आप सभी जानते हैं की, केंद्र और राज्य सरकार मिलकर किसानों के सामाजिक और आर्थिक उत्थान के लिए कई लाभकारी योजनाओं का संचालन किया जा रहा है. प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना, प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना, किसान लाभकारी योजनाओं में से एक है. आज हम आपको किसानों के हित के लिए शुरू की गई एक और लाभकारी योजना के बारे में बताने जा रहें है. इस योजना का नाम है राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना । इस लेख में हम इस योजना से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी से अवगत कराने जा रहें हैं. इसलिए इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें

क्या है कृषि उपज रहन ऋण योजना

कृषि उपज ऋण योजना केंद्र सरकार की योजना है. इस योजना के अंतर्गत किसान अपनी फसल सरकारी समितियों के पास गिरवी रखकर, 3 प्रतिशत ब्याज दर पर 1.50 लाख से 3 लाख रूपए तक का ऋण ले सकते है. जून में तक़रीबन 25 हजार किसानों को इस योजना के तहत ऋण बांटने का लक्ष्य तय किया गया है.

Rajasthan Krishi Upaj Rahan Rin Yojana Overview

योजना का नामकृषि उपज रहन ऋण योजना
राज्य का नामराजस्थान सरकारी योजना
विभागकृषक कल्याण कोष
लाभार्थीसभी किसान
लाभलोन कम ब्याज दर
आवेदन :ऑनलाइन
आवेदन तिथि1 जून से 2020

किसानों को कितना मिलेगा लोन

सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने बताया है की राजस्थान उपज रहन ऋण योजना के तहत लघु एवं सीमान्त किसानों को 1.50 लाख रूपए एवं, बड़े किसानों को 3 लाख रूपए ऋण के रूप में ले सकते है. किसान को उसकी उपज का 70 प्रतिशत ऋण मिलेगा. इससे किसान की तत्कालीन वित्तीय आवश्यकताएं पूरी होंगी.

राजस्थान फसल उपज रहन ऋण योजना की महत्वपूर्ण जानकारी

  • यह योजना एक जून 2020 से शुरू होने जा रही है.
  • कृषक कल्याण कोष से 50 करोड़ रूपए का अनुदान इस योजना के लिए किसानों को मिलेगा.
  • इस योजना के अंतर्गत पात्र समितियों का दायरा बढ़ाकर 5500 से अधिक किया गया है.
  • किसानों को अपनी फसल गिरवी रखने पर ऋण मुहैया कराया जाएगा.
  • लघु एवं सीमान्त किसानों को 1.50 लाख रूपए एवं, बड़े किसानों को 3 लाख रूपए तक का लोन दिया जाएगा.
  • इस योजना के तहत किसानों एवं समितियों की आय में बृद्धि होगी.
  • अपनी फसल का कुल 70% लोन लेने के बाद किसान अपनी फसल को अछे भाव मे बेच सकता है।

कृषि उपज योजना की मुख्य विशेषताएं

  • पुनर्भुगतान पर भुगतान – राज्य सरकार ने यह भी घोषित किया है कि जो किसान समय पर ऋण चुकाते हैं, उन्हें उस राशि पर 2% का अतिरिक्त भुगतान मिलेगा जो उन्होंने जमा की है।
  • LAMPS और GSS – यह योजना उन किसानों को भी लाभ प्रदान करेगी जो पहले से ही GSS और LAPMS के तहत पंजीकृत हैं।
  • वर्गीकरण – किसानों का वर्गीकरण ऑडिट के आधार पर किया जाएगा। ऑडिट नियमित रूप से किया जाना चाहिए। जानकारी के आधार पर, किसानों को ए और बी के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा।
  • अधिशेष संसाधन – ऊपर वर्णित बिंदुओं के अलावा, योजना अधिशेष संसाधनों की उपलब्धता को सुनिश्चित करेगी।
  • बाजार मूल्य बिंदु को पूरा करना – उन किसानों को ऋण प्रदान किया जाएगा जो संबंधित किसानों द्वारा उगाई गई फसल को बेचकर बाजार से लाभ प्राप्त करने में असमर्थ हैं।

योजना की पात्रता मानदंड

  • राज्य के किसानों के लिए – योजना का लाभ पाने के लिए, किसानों को राजस्थान राज्य का निवासी होना चाहिए। उन्हें आधार कार्ड और वोटर कार्ड रखने की आवश्यकता है जो राज्य सरकार द्वारा जारी किए गए हैं।
  • एनपीए से संबंधित मानदंड – इस योजना में यह रेखांकित किया गया है कि यदि एनपीए के गैर-लाभकारी 10% से कम हैं, तो वे क्रेडिट प्राप्त कर सकेंगे।
  • क्रेडिट के रूप में केवल 70% लागत – यह योजना किसानों को कुल धन का केवल 70% प्रदान करेगी, जिस पर किसान ने फसल बेची होगी। गणना बाजार मूल्य के आधार पर की जाएगी।
  • सक्रिय बैंक खाता – जैसा कि किसानों को खाते के माध्यम से दिया जाएगा, यह अनिवार्य है कि प्रत्येक किसान के पास एक सक्रिय बैंक खाता हो। पंजीकरण फॉर्म के साथ खाते का विवरण प्रदान किया जाना चाहिए।

योजना के तहत आवेदन पत्र और आवेदन कैसे प्राप्त करें

  • जैसा कि इस योजना को हाल ही में लागू किया गया है, राज्य सरकार इसके कार्यान्वयन की प्रक्रिया को परिभाषित करने के लिए अभी भी है। लेकिन प्राधिकरण ने घोषित किया है कि यहां तक ​​कि उन किसानों को, जिन्हें LAMPA और GSS के तहत पंजीकृत हैं, को क्रेडिट का लाभ मिलेगा।
  • ए और बी श्रेणियों को पंजीकृत करने में सक्षम होंगे, बशर्ते कि वे नियमित ऑडिट से गुजरें।
  • किसानों को ग्राम सेवा समिति में जाकर आवेदन पत्र भरना होगा। इन ग्राम समितियों का ऑडिट और निगरानी समय-समय पर की जाएगी।
  • उन्हें योजना के दिशानिर्देशों के अनुसार एनपीए की आवश्यकताओं को पूरा करना होगा।
  • एक बार फॉर्म भर जाने के बाद और आवेदन जमा हो जाने के बाद, संबंधित विभाग जरूरतमंदों को काम करेगा और चयनित किसानों को क्रेडिट राशि प्रदान करेगा।
  • पैसा किसान के बैंक खाते में ट्रांसफर किया जाएगा।

FAQs

क्या कृषि उपज रहन ऋण योजना की आधिकारिक वेबसाइट है?

जी हाँ, कृषि उपज रहन ऋण योजना http://www.agriculture.rajasthan.gov.in/content/agriculture/hi.html है, आप इस पर क्लिक करके जानकारी प्राप्त कर सकते है।

Krishi Upaj Rahan Rin Yojana में किन-किन किसानो को शामिल किया है?

इस योजना में सभी दोनों छोटे और बड़े किसान को शामिल किया गया है। सभी किसान इस योजना में आवेदन कर सकते है।

Krishi Upaj Yojana में कितना लोन लें सकते है?

इस योजना में छोटे किसानो को 1.5 लाख और बड़े किसानो को 3 लाख रुपए तक का लोन लें सकते है।

कृषि उपज योजना के तहत लोन की ब्याज की दर क्या है?

इस योजना में आपको लोन 3% ब्याज दर वापिस करना है।

Leave a Comment