यूपी चुनाव: ओवैसी की AIMIM और नीतीश की JDU ने हासिल किए जितने वोट, उतने बीजेपी के दो MLAs ने ही पा लिए

लखनऊ: ओवैसी, कांग्रेस को मिले वोटों को भी अगर नीतीश के साथ जोड़ दिया जाए तो कुल आंकड़ा 26 लाख वोटों का होगा. वहीं बीजेपी के 15 विधायकों को ही 27 लाख से ज्यादा मिले.

यूपी चुनाव में एआईएमआईएम के असदुद्दीन ओवैसी और बिहार के सीएम नीतीश कुमार की पार्टी को जितने वोट मिले, उससे ज्यादा वोट बीजेपी के सिर्फ दो सदस्यों को मिले. इतना ही नहीं अगर इसमें कांग्रेस को मिले वोटों को भी जोड़ दिया जाए तो कुल संख्या 26 लाख वोट हो जाएगी. वहीं बीजेपी के 15 विधायकों को ही 27 लाख से ज्यादा मिले. यानी चुनाव से पहले और बाद में हर जगह बीजेपी ही बीजेपी है.

एक रिपोर्ट के मुताबिक चुनाव में कांग्रेस को 21 51,234 वोट, ओवैसी को 4, 50, 929 और जदयू को 97,738 वोट मिले थे. भाजपा के 12 नेताओं द्वारा डाले गए वोटों की कुल संख्या कांग्रेस पार्टी द्वारा डाले गए वोटों की कुल संख्या से अधिक है। ओवैसी की पार्टी को बीजेपी के दो नेताओं से कम वोट मिले. वहीं, नीतीश की पार्टी को मिले वोटों की संख्या किसी भी बीजेपी नेता को मिले वोटों से कम है. जबकि कांग्रेस और ओवैसी ने बड़े सपने देखे थे। लेकिन धरातल पर उनकी मौजूदगी न के बराबर रही।

2022 के चुनाव में बीजेपी को कुल 3 करोड़ 80 लाख 51 हजार 721 वोट मिले थे. जबकि सपा के खाते में 2 करोड़ 95 लाख 43 हजार 934 वोट आए. बसपा की बात करें तो उसे मिले वोटों की संख्या भी काफी है. मायावती की पार्टी को चुनाव में कुल 1 करोड़ 18 लाख 75 हजार 137 वोट मिले. सपा से लड़ी रालोद को 2 लाख 63 हजार 168 वोट मिले। इन चुनावों में चौधरी जयंत सिंह की रालोद उत्तर प्रदेश में चौथी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है।

रिपोर्ट्स बताती हैं कि बीजेपी के 11 विधायक 1 लाख से ज्यादा के अंतर से जीते. इनमें सुनील कुमारपार शर्मा सबसे ज्यादा वोटों के साथ साहिबाबाद के सभा स्थल के विजेता हैं. उन्हें कुल 3 लाख 22 हजार 882 वोट मिले। उनकी जीत का अंतर 2 लाख 14 हजार 835 था। असदुद्दीन ओवैसी और नीतीश कुमार की पार्टी समेत 11 अन्य पार्टियों को नोटा से कम वोट मिले हैं। दिलचस्प बात यह है कि उत्तर प्रदेश में 6 लाख 37 हजार 304 मतदाताओं ने नोट का बटन दबाया है.

Leave a Comment

Aadhaar Card Status Check Online PM Kisan eKYC Kaise Kare Top 5 Mallika Sherawat Hot Bold scenes