बिट्टी मोहंती: रेप केस में सजा मिली पर हो गया फरार फिर केरल में बन गया था बैंक कर्मी, पढ़िए पूरी कहानी

अलवर रेप केस में दोषी ठहराए गए बिट्टी कई सालों से फरार चल रहा था और उसने अपनी पहचान बदल ली। इस दौरान उन्होंने केरल के स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर में भी काम किया। लेकिन फिर एक गुमनाम पत्र ही उनकी गिरफ्तारी का कारण बना।

आज हम बात कर रहे हैं बिट्टी मोहंती की, जिन्हें 2006 में एक जर्मन लड़की से रेप के मामले में सात साल जेल की सजा सुनाई गई थी। इसी साल 20 नवंबर को उन्हें पैरोल पर रिहा किया गया और कहा गया कि उनकी मां बीमार हैं और भाग गईं। बिट्टी मोहंती 4 दिसंबर 2006 को गायब हो गई और फिर एक नए नाम के तहत एक नया जीवन शुरू किया। जिसमें वे पहले शिक्षक, फिर छात्र और बाद में बैंक कर्मचारी बने। इस दौरान उसने कई फर्जी कागजों का भी सहारा लिया।

बिट्टी मोहंती पहली बार 2007 में आंध्र प्रदेश के अनंतपुर के पुट्टपर्थी पहुंचे। यहां उन्होंने अपना परिचय राघव रंजन के रूप में दिया और कहा कि वह कलिंग इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, ओडिशा से सिविल इंजीनियर हैं। उसके पिता राजीव रंजन जमींदार हैं। उन्होंने पहले पुट्टपर्थी के एक छोटे से संस्थान में बच्चों को पढ़ाया, फिर उन्होंने लगभग 18 महीने तक एक विश्वविद्यालय में शिक्षक के रूप में काम किया।

बिट्टी मोहंती उर्फ ​​राघव रंजन ने 2010 में नौकरी छोड़ दी और पुट्टपर्थी को भी छोड़ दिया। इसके बाद वे केरल के कन्नूर चले गए और चिन्मय इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से एमबीए किया। दरअसल बिट्टी के पिता बी.अव. मोहंती एक आईपीएस अधिकारी थे और बिट्टी मोहंती पढ़ने-लिखने में भी होशियार थे। वह एमबीए पूरा करने के दौरान कॉलेज के छात्रावास में रहे और फिर आईबीपीएस से स्नातक होने के बाद 2012 में एक परिवीक्षाधीन कर्मचारी (पीओ) बन गए।

इस बैंक में काम करने के दौरान वह स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर की मददी शाखा में थे। राघव रंजन यहां अपने साथी के साथ एक अपार्टमेंट बिल्डिंग में रहता था। गिरफ्तारी के बाद बिट्टी मोहंती / राघव रंजन के घर के किराने की दुकान के मालिक ने पुलिस को बताया कि वह अक्सर ओडिशा से चिवड़ा लेने उनके घर आता था। उनके मुताबिक वह राघव रंजन को आंध्र प्रदेश का एक ऐसा युवक मानते थे जो बेहद शांत और सीधा-सादा था।

इन सबके बीच जब बिट्टी मोहंती/राघव रंजन को पकड़ा गया तो कई किस्से सामने आए। कहा जाता है कि राघव के एक युवती से संबंध थे और उसने अपनी बैंक शाखा को एक गुमनाम पत्र भेजा था। जिसमें बिट्टी मोहंती/राघव रंजन का अतीत लिखा हुआ था। कहा जाता था कि लड़की उससे शादी करना चाहती थी, लेकिन दिल्ली में रेप की घटना के बाद बिट्टी मोहंती की तस्वीर कुछ टीवी चैनलों पर चलाई गई।

कहा जाता है कि इन तस्वीरों को देखकर ही यह गुमनाम पत्र बिट्टी मोहंती की बैंक शाखा को भेजा गया था। जिसे बैंकरों ने तिरुवनंतपुरम स्थित अपनी मुख्य शाखा में भेज दिया था। इसके बाद ही जांच के बाद कन्नूर पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया। वहीं राघव की गिरफ्तारी के बाद उसके साथियों ने उसे बेहद शांत और अनुशासित बताया. हालांकि राघव रंजन ने पहले खुद को बिट्टी मोहंती मानने से इनकार कर दिया था, लेकिन घंटों पूछताछ के बाद वह टूट गया।

कन्नूर पुलिस ने तब जयपुर पुलिस को सूचित किया और सभी सबूतों से बिट्टी मोहंती की पहचान हुई। फिर उन्हें 9 मार्च 2013 को जयपुर जेल भेज दिया गया। कानूनी विशेषज्ञों का मानना ​​था कि अगर उन्होंने फैसले का ठीक से पालन किया होता, तो उन्हें इतने दिनों में रिहा कर दिया जाता। इसके अलावा बिट्टी मोहंती की वजह से उनके पिता को भी काम से हटा दिया गया था।

Leave a Comment

Aadhaar Card Status Check Online PM Kisan eKYC Kaise Kare Top 5 Mallika Sherawat Hot Bold scenes