तालिबान ने एक राष्ट्रपति के साथ की ऐसी बर्बरता कि पूरी दुनिया रह गई थी सन्न, पढ़िए पूरा किस्सा

आज तालिबान की उस बर्बरता की कहानी जिसमें अफगान राष्ट्रपति नजीबुल्लाह को घेरा गया था। न केवल उन्हें घेर लिया गया बल्कि उन्हें अपनी जान भी गंवानी पड़ी। दरअसल, मार्च 1992 में अफगान राष्ट्रपति नजीबुल्लाह ने उनके इस्तीफे की मांग की थी। नजीबुल्लाह चाहते थे कि अगर कोई उनकी जगह लेता है तो वह इस्तीफा दे दें। वह नहीं चाहते थे कि देश और जनता असमंजस की स्थिति में रहे।

नजीबुल्लाह का एक और कारण यह था कि 1989 में सोवियत सेना की वापसी के बाद देश पर उनकी पकड़ कमजोर हो गई थी। क्योंकि कई गुटों ने नजीबुल्लाह का विरोध किया और उसे सत्ता से बाहर करने की पूरी कोशिश की। मार्च-अप्रैल 1992 में, अफगानिस्तान में स्थिति ठीक नहीं थी, इसलिए नजीबुल्लाह ने अप्रैल 1992 की शुरुआत में अपनी पत्नी और बेटियों को भारत भेजा।

नजीबुल्लाह ने भी लगातार इस गुप्त तरीके से भारत आने की कोशिश की, लेकिन तालिबान के बढ़ते कदमों के कारण वह काबुल हवाईअड्डे तक नहीं पहुंच पाए। इसके बाद उन्हें घर जाने के बजाय संयुक्त राष्ट्र की सुविधा सुरक्षित महसूस हुई। दूसरी ओर, भारत ने संयुक्त राष्ट्र के साथ मिलकर नजीबुल्लाह को निर्वासित करने का प्रयास किया। हालाँकि, दुविधा ऐसे समय में अधिक थी जब दोनों पक्ष (संयुक्त राष्ट्र और भारत) तालिबान के साथ ठीक से बातचीत नहीं कर सके।

संयुक्त राष्ट्र सुविधा में जाने से पहले नजीबुल्लाह को भारतीय दूतावास में रहना था, लेकिन भारत सरकार ने उन्हें शरण देने से इनकार कर दिया। सरकार का मानना ​​था कि नजीबुल्लाह को शरण देना अफगानिस्तान में रहने वाले भारतीयों को आग में जिंदा फेंकने जैसा हो सकता है। हालांकि, ईरान और पाकिस्तान ने नजीबुल्लाह को मदद की पेशकश की थी। लेकिन नजीबुल्लाह ने कहा कि वह पाकिस्तान और ईरान की मदद के बजाय मरना पसंद करेंगे।

नजीबुल्लाह करीब साढ़े चार साल यूएन में रहे, लेकिन 27 सितंबर 1996 को तालिबान लड़ाकों ने यूएन ऑफिस पर हमला कर दिया। इस घटना में तालिबान लड़ाकों ने पहले नजीबुल्लाह को उसके कमरे से बाहर खटखटाया और फिर गोली मार दी। इसके बाद तालिबान लड़ाकों ने नजीबुल्लाह के शव पर भी तोड़फोड़ की और क्रेन की मदद से शव को लैम्पपोस्ट पर लटका दिया.

Leave a Comment

Aadhaar Card Status Check Online PM Kisan eKYC Kaise Kare Top 5 Mallika Sherawat Hot Bold scenes