ठाकुर बांके बिहारी ने बांके बिहारी मंदिर वृंदावन में वसंत पंचमी पर भक्तों के साथ खेली होली

बांके बिहारी मंदिर में बरसेंगे प्रेमरंग – फोटो: अमर उजाला

मथुरा के वृंदावन में वसंत पंचमी पर प्रजा के प्रिय ठाकुर श्री बांके बिहारी होली कमर में पंखा बांधकर भक्तों के साथ खेलेंगे. बांके बिहारी मंदिर में श्रृंगार आरती के बाद श्रद्धालुओं पर गुलाल छिड़का जाएगा। मंदिर में अबीर-गुलाल के बादल छाए रहेंगे और देश भर से आने वाले भक्तों पर उनकी पूजा के गुलाल में भीगने का आशीर्वाद मिलेगा। इसके साथ ही वसंत पंचमी से होली वन ब्रज भी प्रस्थान करेगी।

5 फरवरी को वसंत पंचमी के अवसर पर बांके बिहारी मंदिर में श्रृंगार आरती के बाद ठाकुरजी वसंती पोशाक पहनकर भक्तों के साथ प्रतीकात्मक रूप से गुलाल की होली खेलेंगे. मंदिर के सेवायत गोस्वामी द्वारा चांदी की थालियों में भक्तों पर लाल, हरा, वसंत, गुलाबी और पीला गुलाल डाला जाएगा। मंदिर के सेवक श्रीनाथ गोस्वामी ने बताया कि वसंत पंचमी के श्री बांके बिहारी महाराज को गालों पर गुलाल लगाकर और कमर पर गुलाल बांधकर तैयार किया जाता है। उन्होंने बताया कि वसंत पंचमी के मंदिर में होली के जाप के साथ ही ब्रज में 40 दिनों तक चलने वाले होली पर्व की भी शुरुआत हो जाती है.

बांके बिहारी मंदिर में श्रद्धालुओं पर बरसेंगे प्रेमरंग – फोटो: अमर उजाला

प्राचीन परंपराओं की पूर्ति

ठाकुरजी के सेवक और श्री हरिदास बिहारी फाउंडेशन के संस्थापक आचार्य प्रह्लाद वल्लभ गोस्वामी ने बताया कि वसंत पंचमी के दिन सबसे पहले श्री बांके बिहारीजी महाराज को गुलाल अर्पण करने के साथ ही औपचारिक उद्घाटन की परंपरा है. होली का त्यौहार स्वामी हरिदासजी, हित हरिवंशजी और हरि रामव्यासजी के समय मनाया जाता था और तब से चल रहा है।

फाइल फोटो – फोटो: अमर उजाला

भक्तिकाल के उस स्वर्णिम काल में संगीत सम्राट स्वामी हरिदासजी अक्सर रसिक संतों के आग्रह पर श्लोकों का जाप करने लगते थे। उस समय माघ शुक्ल पंचमी से चैत्र कृष्ण द्वितीया तक, जिसे अब वसंतोत्सव या होली आगमन के नाम से भी जाना जाता है, संत और भक्त मिलकर मदनोत्सव के नाम से एक उत्सव मनाने लगे। पूरे ब्रज मंडल में डेढ़ माह तक चले इस रंग-बिरंगे महापर्व का प्रथम भजन हरिदासजी ने किया और बिहारी जी के मस्तक पर गुलाल लगाया, प्रतीकात्मक रूप से यही परंपरा अब तक चली आ रही है.

फाइल फोटो – फोटो: अमर उजाला

वृंदावन में 5 फरवरी को वसंत पंचमी के अवसर पर भीड़ को देखते हुए पुलिस ने ट्रैफिक डायवर्जन के उपाय किए. इस आधार पर 4 से 6 फरवरी तक वृंदावन में बाहरी वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। कोतवाली के जिम्मेदार अजय कौशल ने बताया कि चार फरवरी की शाम से बाहर से आने वाले वाहनों का शहर में प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा.

वृंदावन – फोटो: अमर उजाला

छटीकारा की ओर से आने वाले वाहनों को रुक्मिणी विहार स्थित बहुमंजिला कार पार्क में, जबकि मथुरा की ओर से आने वाले वाहनों को दारुक पार्किंग व सौ शैया अस्पताल के सामने खड़ा किया जाएगा. वहीं यमुना एक्सप्रेस-वे से आने वाले वाहनों को टीएफसी, मंडी स्थल, इलेक्ट्रिक बस चार्जिंग स्टेशन और दारुक पार्किंग पर पार्क करने की व्यवस्था की गई है. यह व्यवस्था 6 फरवरी की शाम तक चलती है। उन्होंने कहा कि सभी नाका, तिराहा-चौराहा, पार्किंग और बैरियर पर पुलिस तैनात रहेगी.

Leave a Comment

Aadhaar Card Status Check Online PM Kisan eKYC Kaise Kare Top 5 Mallika Sherawat Hot Bold scenes