कोविड को काबू करने में नाकाफी है वैक्सीन, बूस्टर डोज इसके लिए बेहद जरूरी- PNAS की रिपोर्ट में दावा

वैक्सीन का कोविड 19 वायरस पर थोड़े समय के लिए ही असर हो सकता है। बूस्टर डोज केवल वायरस के प्रति प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में कारगर है। यह बयान अमेरिका की प्रोसीडिंग ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज (पीएनएएस) संस्था की रिपोर्ट में दिया गया है। स्टडी में कहा गया है कि समय के साथ यह वायरस और ताकतवर होता जाता है, इसलिए सावधानियां जरूरी हैं.

जेफरी पी टाउनसेंड और उनकी टीम ने अपने अध्ययन में पाया कि शरीर में कोविड के प्रति एंटीबॉडी और रोग प्रतिरोधक क्षमता का स्तर समय के साथ कम होने लगता है। इससे कोरोना से संक्रमित होने का खतरा बना रहता है। यदि आप बूस्टर खुराक लेते हैं, तो एंटीबॉडीज पुन: उत्पन्न हो जाएंगे। इससे कोरोना के लक्षण गंभीर नहीं होंगे। यदि कोई टीका लगवाने के बाद भी संक्रमित हो जाता है तो भी स्थिति ज्यादा गंभीर नहीं होगी। रिपोर्ट में कहा गया है कि वैक्सीन के प्रति प्रतिरोधक क्षमता थोड़ी देर बाद कम होने लगती है। ऐसे में एहतियात के तौर पर बूस्टर डोज लेना जरूरी हो गया है।

ध्यान रहे कि सरकार ने पहले 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को बूस्टर डोज के लिए चुना था, लेकिन अब 18 साल से ऊपर के सभी लोग इसे करवा सकते हैं। यह सभी के लिए मुफ्त में किया जाता है। अतीत में, सरकार ने हाल ही में बूस्टर खुराक लगाने के लिए समय अंतराल को भी कम कर दिया है। इसके बाद दूसरी खुराक लगाने के 6 महीने बाद ही लोगों को टीका लग सकता है। पहले यह अंतराल 9 महीने का था। सरकार ने हाल ही में कोविड से बचाव के लिए ये सभी सावधानियां बरती हैं।

देश में शुक्रवार से मुफ्त बूस्टर डोज वाला 75 दिवसीय अभियान शुरू हो गया है। अभियान के पहले दिन से ही लोगों में जबरदस्त उत्साह देखने को मिला. पहले दिन 13 लाख 30 हजार लोगों ने बूस्टर डोज लिया। यह पहले दिन बूस्टर खुराक लेने वालों की संख्या में 16 गुना वृद्धि थी। इससे पहले गुरुवार को देश में सिर्फ 78 लाख लोगों ने बूस्टर डोज लिया था। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि 18 से 59 आयु वर्ग के बूस्टर डोज लेने वालों की संख्या 90 लाख से अधिक हो गई है। वहीं, 60 साल से अधिक उम्र के 2.78 करोड़ लोगों ने बूस्टर डोज भी ली है।

उधर, भारत में पिछले 24 घंटों में कोविड के 20,044 नए मामले सामने आए, 18,301 ठीक हुए और 56 लोगों की मौत हुई। सक्रिय मामले 1,40,760 हैं। पूरे देश में पश्चिम बंगाल में सबसे ज्यादा कोरोना के मामले हैं। राज्य में एक्टिव केस बढ़कर 30,043 हो गए हैं। यहां पॉजिटिविटी की डिग्री 19.54 फीसदी है।

Leave a Comment

Aadhaar Card Status Check Online PM Kisan eKYC Kaise Kare Top 5 Mallika Sherawat Hot Bold scenes